ऋषि कपूर की ज़िन्दगी की 10 अनछुई बातें

बॉलीवुड से आयी एक और दुखद घटना ऋषि कपूर नहीं रहे

बॉलीवुड से आयी एक और दुखद घटना ऋषि कपूर नहीं रहे

,जैसा की हम जानते है। बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता ऋषि कपूर जी हमारे बीच नहीं रहे है। उनका निधन मुंबई िस्थित  एचएन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में आज सुबह ३०/४/२०२० को हुआ इस बात की पुस्टि उनके भाई रणधीर कपूर ने दी। वैसे तो हम सभी ऋषि कपूर जी को बहुत पसंद करते थे और उनको दिल से प्यार भी करते हैं। बॉलीवुड में उन्हें सभी चोक्लेटी बॉय के नाम से जानते है। आज हम ऋषि कपूर जी की ज़िन्दगी से जुडी कुछ खास बातें आप लोगो के लिए लाये है।                            

ऋषि कपूर जी ने अपने पहली फिल्म में बतौर बाल कालकर श्री 420 में काम किया था। जिसको उनके पिता राज कपूर ने डायरेक्ट िया था उन्होंने इस फिल्म के मशहूर गीत प्यार हुआ िकार में अपना किरदार निभाया था उस समय ऋषि कपूर जी सिर्फ तीन साल के थे  

 ऋषि कपूर जी ने साल 1970 आयी  मशहूर फिल्म  मेरा नाम जोकर में अपने पिता जी स्वर्गीय राज कपूर जी के युवा किरदार को निभाते  हुए नजर आये थे ये बाल कलाकार उनकी दूसरी फिल्म थी  

ऋषि कपूर जी को  साल 1970 में फिल्म मेरा नाम जोकर के निभाए गए किरदार के लिए सर्वश्रेष्ठा बाल कलाकार राष्ट्रीय पुरुस्कार से सम्मानित किया गया था 

ऋषि कपूर जी सिर्फ २१ साल के थे जब उन्होंने साल1973  में आयी फिल्म बॉबी  में डिंपल कपाड़िया के साथ नजर आये थे ये फिल्म उनके प्रमुख किरदार के रूप उनकी पहली फिल्म थी 

ऋषि कपूर जी ने साल 1999 में आयी फिल्म आ अब लौट चले को डायरेक्ट किया था बतौर डायरेक्टर ये उनकी पहली फिल्म थी इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 16 करोड़ तीस लाख रूपए का कलेक्शन किया था। ये फिल्म हिट रही थी 

ऋषि कपूर जी अपने देश के साथ विदेशो में भी लोकप्रिय थे इनमे से ही एक देश नाइजीरिया  है जहाँ उन्हें लोग बहुत पसंद करते थे उन्हें वहाँ पर एक mace नाम से भी बुलाते है mace जिसका मतलब महिला होता है

साल 1992 में बनी फिल्म दीवाना के एक गाने ऐसी दीवानगी देखि नहीं कही  के लिरिक्स उनको इतने पसंद ए थे की वो शाहरुख़ की जगह इस गाने में काम करना चाहते थे।  

बॉलीवुड में शाहरुख़ ने जिस फिल्म डर से अपनी पहचान बनायीं वह फिल्म पहले ऋषि कपूर जी को ऑफर की गयी थी पर उस वक़त ऋषि कपूर किसी भी नेगेटिव किरदार नहीं करना चाहते थे इसीलिए उन्होंने इस फिल्म के लिए शाहरुख़ खान का नाम सजेस्ट किया था। 

आज के दौर का हर बड़ा एक्टर गुलज़ार साहब के लिखे बोल का इस्तेमाल अपनी फिल्म में करना चाहता है। लेकिन ऋषि कपूर अपनी ये चाहत अपनी कई सालों के लम्बे करियर के बावजूद भी नहीं कर सके और इस बात का अफ़सोस उन्हें हमेशा रहा।

ऋषि कपूर ने अपने लम्बे करियर में लगभग 92 फिल्मो में काम किया उन्हें उनके प्रदर्शन के लिए कई अवार्ड्स से सम्मानित किया गया है जिसमे साल  2011 का बेस्ट एक्टर फिल्म फेयर क्रिटस अवार्ड 2017 बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर फिल्म फेयर अवार्ड और 2008 में फिल्म फेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *