इरफ़ान खान की 10 अनसुनी बातें

इरफ़ान खान की 10 अनसुनी बातें

इरफ़ान खान की 10 अनसुनी बातें

हमें ये समाचार बताते हुए बहुत दुःख है की वो एक्टर जिसने दुनिआ को अपनी आँखों से एक्टिंग करके बताया उनका निधन बुधवार को मुंबई के अँधेरी स्थित कोइलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में हुआ। वो और कोई नहीं हमारे चहिते एक्टर स्वर्गीय इरफ़ान ख़ान साहब थे। बताया जा रहा था की इरफ़ान 2018 में न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर हुआ था जिसका एक लम्बे समय तक इलाज भी चला। इरफ़ान को मंगलवार को कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया जहा हुनकी हालत नाज़ुक बताई गयी जिसके कारण उनको I C U वार्ड में रखा गया और उसके बाद बुधवार की सुभह उनके क़रीबि मित्र सुजीत सरकार ने उनके देहांत की जानकारी अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करि।

वैसे तो एक्टर कभी नहीं मरते आज हम इरफ़ान ख़ान साहब की ज़िन्दगी से कुछ अनकही बातें लेकर आये है।

इरफ़ान ख़ान का असली नाम साहबज़ादे इरफ़ान अली खान और उनका जन्म 7 जनवरी १९६७ को जयपुर राजस्थान में हुआ था।

इरफ़ान एक क्रिकेटर बनना चाहते थे और उन्होंने इस सपने को लगभग पूरा भी कर लिया था जहा उनका सिलेक्शन कि सीके नायडू टूर्नामेंट में भी हो गया था। मगर पैसो की कमी के चलते वो अपने सपने को ज़यादा आगे नहीं ले जा सके और उनका क्रिकेटर बनने का सपना छोड़ना पड़ा।

हम सभी अच्छे से जानते है की इरफ़ान ख़ान ने अपनी एक्टिंग की पढ़ाई नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा (NSD ) करि थी। मगर उन्हें ये स्कॉलर शिप उन्हें उस वक्त में मिली जब वह MA की पढ़ाई कर रहे थे। एनएसडी में एड्मिशन लेने के लिए उन्होंने झूट कहा की उन्हें थिएटर का एक्सपीरियन्स है।

जब वो मुंबई गए तो वहा उन्होंने पहले पैसे एक्टिंग से नहीं बल्कि उन्होंने AC रिपेयर करके कमाए थे।

इरफ़ान ने कई टीवी सीरियल में भी काम किया था उनमे चाणक्य, भारत एक खोज , सारा जहाँ हमारा, बनेगी अपनी बात चंद्रकांता प्रमुख थे।

जहा एक तरफ हर बॉलीवुड एक्टर हॉलीवुड एक्टर में काम करने की चाह रखता है वही इरफ़ान ने interstallor जैसी बढ़ी फिल्म में काम करने के लिए मना कर दिया था क्युकी फिल्म मेकर्स चाहते थे की इरफ़ान 4 महीनो के लिए उनके साथ ही रहे।

उन्होंने अपने नाम के साथ एक एक्स्ट्रा R 2012 में लगाया था उसके पीछे उन्होंने वजह बताई की उन्हें डबल R सुन्ना पसंद था।

उन्हें 2 बार लॉस एंजेलिस एयरपोर्ट पर रोक लिया गया था क्युकी उनका नाम ९/११ के आतंकवादियों से मिलता था।

हमारे लिए यह बड़े गर्व की बात है की बॉलीवुड के इस नायक ने ऐसी दो फिल्मो में काम किया जिनको ऑस्कर अवार्ड मिला है।
Slumdog Millionare (2008) और Life of Pie (२०१२)

साल 2011 में इरफ़ान खान को हिंदी फिल्म जगत में उनके योगदान के लिए पदम् श्री सम्मान से नवाज़ा गया था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *